जानिए जीवन में पितरों का महत्व और आखिर कौन होते हैं पितृ

0
10

हिंदू धर्म में, पितृ लोक दिवंगत पूर्वजों की दुनिया है। यह शब्द संस्कृत से आया है, जिसका अर्थ है “पूर्वज” या “माता-पिता,” और लोका का अर्थ है “दुनिया” या “क्षेत्र।” पितृ लोक की अवधारणा जबकि समान है मगर फिर भी कई अलग-अलग हिंदू परंपराओं में यह भिन्न होती है।

 

पितृ लोक की परिभाषा

कुछ परंपराओं में, प्रेता लोका (दिवंगत की दुनिया) के साथ, भुवर लोक (वायुमंडल का विमान) के भीतर दो क्षेत्रों के ऊपरी हिस्से में पितृ लोक होते है। कभी-कभी पितृ लोक को भुवर लोक का पर्याय माना जाता है। अन्य परंपराओं में, पितृ लोक भू लोक (सांसारिक क्षेत्र) के चार उपखंडों में से एक है।

 

क्या है पितृ लोक

जब पितृ लोक भुवर लोक से जुड़ा होता है, तो यह सूक्ष्म तल होता है जहां पुण्य आत्माएं अपने अच्छे कर्मों का आनंद लेने जाती हैं। जब यह समाप्त हो जाता है, तो वे अपने आध्यात्मिक विकास को जारी रखने के लिए पुनर्जन्म लेते हैं। कुछ लोगों का मानना ​​है कि पितृलोक में पूर्वजों की तीन पीढ़ियों की आत्माएं निवास करती हैं।

 

सर्वप्रथम मान्य है पितृ

परंपराओं में जिसमें एक अधिक विस्तृत भू लोक में चार लोक शामिल हैं, इन क्षेत्रों में पितृ सबसे ऊंचा है। अन्य हैं मर्त्य लोक, जहां मनुष्य सांसारिक शरीरों में निवास करते हैं। प्रेत लोक, जहां आत्माएं शारीरिक मृत्यु के बाद और न्याय की प्रतीक्षा करते हुए आराम करती हैं। नरक लोक, जहां पापियों को दंड का सामना करना पड़ता है, और पितृ लोक, जहां अच्छे और बुरे कर्मों के मिश्रण वाले लोग रहते हैं।

 

सवालों के जवाब

तनाव और अनिश्चितता के इस समय के दौरान आपके दोष असंतुलित हो सकते हैं। अपने दोषों पर ध्यान दे और अपने अंतर्ज्ञान के आधार पर खुद को उत्तर दें। आखिरकार, आप खुद को किसी और से बेहतर जानते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here