“केवल मजबूत विरोध ही गुलाम कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा बनने से बचा सकता है”:- हैदर, गुलाम कश्मीर के पूर्व पीएम 

0
49

“केवल मजबूत विरोध ही गुलाम कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा बनने से बचा सकता है”:- हैदर, गुलाम कश्मीर के पूर्व पीएम 

संविधान में संशोधन के खिलाफ पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में चल रहे विरोध पर हालिया अपडेट में, गुलाम कश्मीर के पूर्व प्रधानमंत्री, फारूक हैदर ने कहा कि- “संशोधन पारित करने के लिए सभी व्यवस्थाएं और गुलाम कश्मीर (पीओके) को एक प्रांत बनाने का अंतिम रूप दिया गया है, और केवल एक मजबूत विरोध ही क्षेत्र को पाकिस्तान का हिस्सा बनने से बचा सकता है।”

कब्जे वाले क्षेत्र की संवैधानिक स्थिति को ठीक करने के लिए 15 वें संशोधन में पाकिस्तान सरकार की योजना के खिलाफ मुजफ्फराबाद और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के अन्य शहरों में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। प्रदर्शनकारियों ने अपना गुस्सा दिखाने के लिए टायर जलाए और हाईवे भी जाम कर दिए हैं। उन्होंने पाकिस्तान में शामिल होने के खिलाफ, संविधान संशोधन के खिलाफ नारे लगाए और पाकिस्तान से आजादी की मांग की है।

बता दें पीओके एक स्वशासित क्षेत्र है जिसमें उनका अपना एक राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और आधिकारिक ध्वज होता है, लेकिन यह इस्लामाबाद द्वारा कश्मीर मामलों के संघीय मंत्रालय और एक निर्वाचित निकाय, कश्मीर परिषद के माध्यम से नियंत्रित होता है, जिसकी अध्यक्षता पाकिस्तान के प्रधानमंत्री करते हैं। सरकार के इस कदम से क्षेत्र के सभी 10 जिलों के नागरिक आक्रोशित हैं। इन विरोध प्रदर्शनों ने पीओके के अन्य इलाकों जैसे रावलकोट, बाग, पुंछ, मुजफ्फराबाद और नीलम घाटी में हालात बदतर कर दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here