अपोलो के 50 साल बाद नासा नए मून रॉकेट का करेगी परीक्षण, पूरा होगा यह सपना

0
43

कई वर्षों के इंतजार और अरबों बजट के बाद अब आखिरकार नासा के चंद्रमा रॉकेट का अगले हफ्ते परीक्षण किया जाएगा। नासा के प्रसिद्ध अपोलो मिशन के 50 साल बाद 322 फुट यानी 98 मीटर रॉकेट खाली क्रू कैप्सूल को चंद्रमा की कक्षा में भेजने का प्रयास करेगा। अगर सब ठीक रहा तो अंतरिक्ष यात्री 2024 तक चंद्रमा के चारों ओर एक चक्कर लगा सकते हैं। नासा का 2025 के अंत तक चंद्रमा की सतह पर दो लोगों को उतारने का लक्ष्य है। लिफ्टआफ सोमवार सुबह नासा के कैनेडी स्पेस सेंटर से सेट किया गया था। नासा के अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि छह सप्ताह की परीक्षण उड़ान जोखिम भरी है और कुछ विफल होने पर इसे छोटा किया जा सकता है।

जार्ज वाशिंगटन विश्वविद्यालय के अंतरिक्ष नीति संस्थान के सेवानिवृत्त संस्थापक ने कहा है कि- इस ट्रायल रन पर बहुत कुछ चल रहा है। उन्होंने कहा कि अगर चीजें दक्षिण की ओर जाती हैं तो मिशन के बीच बढ़ती लागत और लंबे अंतराल से वापसी कठिन होगी।

 

रॉकेट पावर

  • नया रॉकेट सैटर्न वी रॉकेट से छोटा और पतला है, जो आधी सदी पहले 24 अपोलो अंतरिक्ष यात्रियों को चांद पर ले गया था और यह अधिक शक्तिशाली है।
  • नेल्सन के अनुसार, इसे स्पेस लान्च सिस्टम रॉकेट कहा जाता है।
  • सुव्यवस्थित सैटर्न वी के विपरीत, नए रॉकेट में नासा के अंतरिक्ष शटल से नए सिरे से स्ट्रैप-आन बूस्टर की जोड़ी है।
  • बूस्टर दो मिनट के बाद छील जाएंगे, जैसे शटल बूस्टर ने किया था, लेकिन पुन: उपयोग के लिए अटलांटिक से नहीं निकाला जाएगा।
  • प्रशांत क्षेत्र में टुकड़ों में अलग होने और दुर्घटनाग्रस्त होने से पहले मुख्य चरण फायरिंग जारी रखेगा।
  • लिफ्टआफ के दो घंटे बाद एक ऊपरी चरण कैप्सूल ओरियन को चंद्रमा की ओर दौड़ते हुए भेजेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here