मिलिंद देवड़ा ने की AAP और केजरीवाल की तारीफ, अजय माकन बोले- कांग्रेस छोड़नी है क्या भाई?

 

मिलिंद देवड़ा ने की AAP और केजरीवाल की तारीफ, अजय माकन बोले- कांग्रेस छोड़नी है क्या भाई?

दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने एक बार फिर से सरकार बना ली है. अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने रविवार को तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. दिल्ली चुनाव में आप की इस ऐतिहासिक जीत से कांग्रेस में काफी हलचल मची है. पार्टी के कुछ नेता जहां केजरीवाल को बधाई दे रहे हैं, वहीं कुछ नेता आपस में ही उलझते दिख रहे है. महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता मिलिंद देवड़ा ने देर रात कई ट्वीट्स कर अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी की तारीफ की, जिसके बाद अजय माकन ने उन्हें जवाब देते हुए कहा कि अगर आपको पार्टी छोड़नी है, तो बेशक छोड़ सकते हैं.

आपको बता दे कि कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने रविवार देर रात को एक ट्वीट किया, जिसमें राज्य सरकार के द्वारा रेवेन्यू के मोर्चे पर काम की तारीफ की है. उन्होंने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘एक ऐसी जानकारी साझा कर रहा हूं जो कि कम लोग जानते हैं. अरविंद केजरीवाल सरकार ने पिछले पांच साल में रेवेन्यू को डबल कर दिया है और अब ये 60 हजार करोड़ तक पहुंच गई है. दिल्ली अब भारत का सबसे आर्थिक रूप से सक्षम राज्य बन रहा है.’

मिलिंद देवड़ा के इस पोस्ट पर अब तक 11 हजार से ज्यादा लाइक्स आ चुके हैं. 2700 बार इस ट्वीट को री-ट्वीट किया जा चुका है. दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी इस देवड़ा के वीडियो को री-ट्वीट किया है.

बता दे कि मिलिंद देवड़ा का आम आदमी पार्टी की इतनी तारीफ करना कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय माकन को पसंद नहीं आया. उन्होंने देवड़ा को टैग करते हुए ट्वीट किया, 'भाई, अगर आपको कांग्रेस पार्टी छोड़नी है, तो छोड़ सकते हैं. या फिर आधे पके तथ्यों को ठीक करें.’

अजय माकन ने इसी के साथ कुछ डाटा साझा किया. उन्होंने आगे लिखा:-

1997-98 (रेवेन्यू) 4073 करोड़

2013-14 (रेवेन्यू) 37459 करोड़

कांग्रेस सरकार के दौरान 14.87 फीसदी रेवेन्यू बढ़ा

2015-2016 (रेवेन्यू) 41129

2019-20 (रेवेन्यू) 60000

आप सरकार के दौरान 9.90 फीसदी रेवेन्यू बढ़ा

बता दें कि मिलिंद देवड़ा ने आप की तारीफ से एक दिन पहले कांग्रेस नेता पीसी चाको की आलोचना की थी. चाको ने आरोप लगाया था कि दिल्ली में कांग्रेस की जमीन शीला दीक्षित के वक्त से ही कमजोर पड़ गई थी.

इस पर आपत्ति जताते हुए मिलिंद देवड़ा ने ट्वीट किया था, 'शीला दीक्षित एक दूरदर्शी राजनेता और प्रशासक थीं. उनके मुख्यमंत्री रहते हुए कांग्रेस ने दिल्ली में कई विकास के काम किए. उनके शासनकाल में दिल्ली में कांग्रेस बहुत मजबूत हुई थी. दिल्ली चुनाव 2020 में कांग्रेस की बुरी हार के लिए दिवंगत शीला दीक्षित को जिम्मेदार ठहराना बिल्कुल गलत और दुखद है.'

From around the web

Health

Entertainment